Search for
Login | Username Password Forgot? | Email: | Create Account
Non English | Entries: 162 | Views: 25 | Updated: 6 months ago | | Add to My Feeds
Report
जो
आपने न लिया हो, ऐसा कोई इम्तहान न रहा,
इंसान आखिर मोहब्बत में इंसान न रहा,
है कोई बस्ती, जहा से न उठा हो ज़नाज़ा दीवाने का,
आशिक की कुर्बत से महरूम कोई कब्रस्तान न रहा,

हाँ वो मोहब्बत ही है जो फैली हे ज़र्रे ज़र्रे में,
न हिन्दू बेदाग रहा, बाकी मुस्लमान न रहा,

जिसने भी कोशिश की इस महक को नापाक करने की,
इसी दुनिया में उसका कही नामो-निशान न रहा,

जिसे मिल गयी मोहब्बत वो बादशाह बन गया,
कुछ और पाने का उसके दिल को अरमान न रहा,

More from Hindi Shayari

Sad Hindi Shayari 10 Mar 17
Hindi Poetry 10 Mar 17
Hindi Diwali SMS 09 Oct 14
Shayari SMS 09 Oct 10
New Hindi Shayari 09 Oct 3

^ Back To Top